Skip to main content

kahani - LOVE IN TRAIN (PART-2)



To read 1st part-
Love in train (part-1)

             LOVE IN TRAIN (PART-2)
                        मोहब्बत का सफर 


छुक छुक छुक चलो ये चली रेलगाड़ी...................
ट्रेन कानपुर सेंट्रल से निकल चुकी है, धीरे धीरे कानपुर पार करती है। अरे ये क्या दोनों अभी भी एक ही केबिन में लेकिन ये क्या दोनों एक दूसरे की तरफ देख भी नही रहे है । प्रतीक मन में बड़बड़ाता है टी.टी. सच में कमीना है एक सीट जुगाड़ नही करा सकता है, इतनी फुल है ट्रेन क्या ?
तभी नजर खड़की के बाहर पड़ती है, बने वो झोपडी घरो पर गरीबी और गंदगी में रहते लोग और इतनी ठंड में कम कपड़ो में खेलते बच्च्चे जिनको बस अपनी दुनिया से मतलब है। तभी कानपुर की एक अलग खूबसुरती गंगा नदी। ट्रेन अपनी रफ्तार से चल रही थी और प्रतीक दरवाजे पर खड़े हो पीछे भागती खूबसुरती को कैद करता है। और ट्रेन संगम के अर्धकुम्भ से प्रयागराज स्टेशन पर आ चुकी थी, प्रतीक केबिन में अंदर आया देखा निषी खिड़की बैठी थी , तभी अजानक लगे ब्रेक से उसकी नजर सीट के नीचे से निकले उस झुमके पर पड़ी जो अभी भी नीचे था शायद लड़ाई के चक्कर में उसे दोनों लोग उठाना भूल गए । प्रतीक ने झुक कर उसे उठाया तो निषी देख बोली - "ये मेरा है मुझे दो।"
प्रतीक चुपचाप दे कर बैठ जाता है सोचता है इतनी अकड़ उफ्फ!!!
You are reading story at storytellershivam.in

तभी एक आवाज से प्रतीक से चौक जाता है आवाज निषी की उससे बोली- "सुनो i m sorry वो कमीने टी.टी. की गुस्सा आप पर निकल गयी, वैसे में निषी और आप ?"
प्रतीक सोच में था इतनी अकड़ू लड़की इतनी प्यार से कैसे ?
निषी फिर बोली- "क्या सो सोचने लगे आप ?"
"अरे कुछ नहीं मे प्रतीक और आप मुझे तुम बोल सकती हो और एक बात और टी.टी. सच में कमीना था।" प्रतीक ने कहा ।
और दोनों हँस देते है।
दोनों की बातों के साथ ट्रेन प्रयागराज से निकल चुकी है धीरे धीरे, लड़ाई से शुरू हुई अब दोस्ती में बदल रही थी । प्रतीक पूछता है-"तुमको को कहाँ तक जाना है ?"
"सिलीगुड़ी दार्जलिंग घूमने और तुमको ?" निषी पलट के पूछती है ।
प्रतीक चेहरे पर चमक और मुस्कराहट दोनों को लाके कहता है "मे भी सिलीगुड़ी घूमने, वाह क्या बात है, वैसे एक बात पुछू ?"
निषी- हाँ पूछो।
"कल तो तुम साडी में थी बिलकुल भारतीय नारी की तरह लेकिन आज ये  इतना रफ़ लुक क्यों ?" प्रतीक ने जानने की उत्सुकता से पूछा।
निषी बोली- "अरे यार वो कल घर में पार्टी थी तो और मेरी माँ को पसंद नही की में ऐसे फ़टे छोटे कपड़े पहनू इसीलिए और वैसे तुम भी कल जहाँ तक मुझे थोड़ा बहुत याद है फॉर्मल लुक दाड़ी के साथ थे लेकिन आज तो अलग ही है में पहचान नही पायी।" 
प्रतीक ने हँसते हुए कहा- "पहचान तो हम भी नही पाये तुमको वैसे और ये लुक तो बस घूमने के लिए बनाया है।"
रात के 11:45 हो रहे थे दोनों बातो में इतना व्यस्त की सोना ही भूल गए ।
"अरे यार प्यास और भूख लगी है कुछ है तुम्हारे पास" निषी ने पूछती है।
You ate reading story at storytellershivam.in
प्रतीक जवाब देता है- "नही अभी तो नही लेकिन ट्रैन की स्पीड कम हो रही है कोई स्टेशन आ रहा है ले लेना कुछ भी।"
ट्रेन स्टेशन पर आके रूकती है निषी कुछ पैसे लेकर नीचे जाती है और उस छोटे से बिलकुल खाली स्टेशन पर अपने लिए मुश्किल से फ्रूट ढून्ढ कर  खरीदती है जैसे ही वापस ट्रेन की तरफ आती है, की तभी एक आदमी अजानक से उसके हाथ से पैसे झीन कर भागता है।
निषी चिल्लाती है- "चोर चोर!!"
लेकिन किसी को आसपास ना पा कर खुद उसके पीछे भागती है, वो चोर सीढ़ियों के ऊपर से ऊपर तरफ जाता है।
इधर प्रतीक आवाज सुन कर बाहर आता है लेकिन उसे निषी नही दिखती तो उसे वो इधर उधर देखने लगता है। यहाँ ओवर ब्रिज के ऊपर निषी को एक चौकीदार वाला सोता दिखता वो चिल्लाती है- "ओये चोर चौकीदार हड़बड़ा के उठता है और चोर की तरफ लपकता है लेकिन चोर उसे धक्का दे कर भाग जाता है।
निषी दौड़ते हुए चौकीदार से बोलती है- "फट्टू चूड़ियाँ पहन ले कमीने।"
तभी प्रतीक की नजर ब्रिज पर भागती निषी पर पड़ती है वो उसकी तरफ भागने लगता है लेकिन कुछ ही देर में ट्रेन का हॉर्न बजता है और ट्रेन चल देती है।
दोनों हॉर्न सुन के चोर को छोड़ ट्रेन की तरफ भागते है, लेकिन ज्यादा दूर निकल आने के कारण ट्रेन रफ्तार पकड़ लेती है और ट्रेन स्टेशन से निकल जाती है। दोनों भागते भागते थक जाते है लेकिन ट्रेन जा चुकी है। अब दोनों एक अनजान स्टेशन पर एक दूसरे को देख रहे है बस...
                             ...to be continue...
To read 1st part-
Love in train (part-1)
To read 3rd part-
Love in train (part-3)
To read last part-
Love in train (last part)

Connect with me on social media
Instagram :-
Storyteller_shivam
Facebook:-

Comments

Post a Comment

Stories you like

kahani - You are my Soulmate or love?

          You are my Soulmate or love? एक रोज जब तुमसे 2 दिन बात नही हुई ओर तीसरे दिन शाम को बात हुई उस रात नींद हमको नही आ रही थी तो सोचा एक बात हमारी तुम्हारी लिखू.. एक खत तुम्हारे लिए लिखू। बस ये डाक से नही मेरे एहसास से तुम तक जाएगा चलो महसूस कराते है तुमको एहसास हमारे... Dear jalebi आज jalebi लिख रहा हूँ little heart फिर कभी ये सच है तुमसे प्यार है या नही पता नही, वैसे हम क्यों करे प्यार तुमसे तेरी इस रूह को मेरे इस शरीर से नही निकाल सकते , तो कैसे प्यार करे तुमसे। काश निकाल पाते तो जरूर मोहब्बत होती तुमसे। अच्छा पुरानी यादों की एक कहानी सुनोगी , वो शाम याद जब हम घर पर थे और तुमने फ़ोन करके बोला था हमने उसको हाँ कर दी तब एक ही सवाल मेरा था क्यों? और तुमने वो एक जवाब दिया जो कभी नही भूलेंगे जाने दो उस दिन से फिर भी हम रोज मिलते और बातो में हम दोनों का एक एहसास था । वो पार्क में जब पहली बार हाथ पकड़ा था तुम्हारा ओर तुमने कुछ नही बोला वो तुम्हारे हाथ  की गरमाहट का एहसास आज भी मेरे हाथ मे है। फिर जब तुम दूर जा रही थी , आँख में आँसू नही थे मेरे। क्यो

kahani - 90's childhood story (Cute love story) - part-1

                      90's chi l dhood story                         (Cute love story)                       "प्रतीक बेटा उठ जाओ स्कूल नही जाना है  इतनी देर तक कोन सोता है?" ये है हमारी मम्मी पता नही क्यों हमेशा सुबह के सपने खराब करने की आदत है। "प्रतीक प्रतीक" माँ चिल्लताते हुए  बोली। "मे तो उठ गया हूँ मम्मी , बस लेटा ही हूँ।" "अच्छा रुक अभी आती हूँ सुबह सुबह मार खायेगा तू?" अरे ये 90s है इस समय माँ की मार और पापा की डाँट से कोई नहीं बच सकता है। इसलिए माँ के कमरे तक पहुँजने से पहले ही हम नहा कर तैयार हो गए । "आज फिर सिमरन मिलते मिलते रह गयी सपने में   हमको , मम्मी को भी उस टाइम पर चिल्लाना होता है।" में बड़बड़ाते हुए नाश्ते की टेबल पर पहुँचा ही था कि "क्या बड़बड़ा रहे हो तुम?"  दीदी ने पूछा। में उनकी तरफ देखते हुए बोला "कुछ नही आपसे मतलब।" माँ किचन से मुझे नाश्ता और दूध देते हुए बोली "आज आखिरी पेपर है कल से तुम्हरी गर्मियो की छुट्टी शुरू है तो खुशी में बेकार पेपर मत कर आना समझे ।&

kahani - LOVE IN TRAIN (LAST PART)

To read 3rd part- Love in train (part-3)             LOVE IN TRAIN (LAST PART)                               मोहब्बत का सफर सुबह के सूरज की रोशनी खिड़की से सीधे प्रतीक के मुँह पर पड़ते हुए उसको एक नई सुबह का एहसास करा रही थी। आँखे जब नीचे झुकी देखा निषी उसकी गोद में सर रख कर सो रही थी। ना जाने क्यों प्रतीक की हिम्मत नही हुई उसे उठाने की बस एक नज़र उसे देखता रहा , वो मीठी धूप निषी के चेहरे को एक अलग ही चमक दे रहे थी। प्रतीक ने धीरे धीरे से उसके चेहरे पर आते बालों को हटा दिया , लेकिन तभी निषी की आँख खुल गयी । खुद को प्रतीक की गोद में देख उठी और बोली - "सॉरी वो रात को याद नही रहा होगा।" "अरे कोई बात नही।" प्रतीक हँसते हुए बोला। You are reading story at storytellershivam.in थोड़ी देर बाद अब दोनों अपनी सीट पर चुपचाप बैठे खिड़की के बाहर वो बर्फीले पहाड़ो का देख रहे थे ट्रेन सिक्किम मे आ चुकी थी। बस कुछ घण्टो का सफर और बाकी था। तभी चाय आती है। प्रतीक केबिन की शान्ति को तोड़ते हुए पूछता है - "तुम घर से क्यों भाग कर आयी हो?" निषी हँस देती कहती है

The evening...^2 (Known or unknown love story?)

  To read 1st part- The evening-1                      The evening...^2  (Known or unknown love story?)   उफ्फ ये सफर...हर बार कुछ न कुछ याद दिलाता रहता है। प्रतीक ट्रैन से अपने बचपन और माँ के शहर से वापस आ रहा था। और हर पल बढ़ती ट्रैन की रफ्तार के साथ और वो पीछे छूटते शहर के साथ वो बचपन की धुंधली यादे ताज़ा हो रही थी। तो चले फिर से फ़्लैश बैक में boooommm.... " मम्मी में जाऊ खेलने सामने वाले पार्क में ।" मेने माँ से ज़िद करते हुए बोला। "नहीं अभी नहीं पहले ये दूध खत्म करो तभी जाने देंगे।" माँ ने प्यार से बोला। में फटाफट दूध खत्म करके सामने वाले पार्क में  खेलने के लिए पहुँचा। यही जगह थी हमारी हर शाम की हम दोस्तो की में , नितिन , करिश्मा , अरमान और निषी रोज यही खेलते मस्ती करते और दिन ढलने से पहले अपने अपने घर चले जाते थे। लेकिन वो दिन कभी नही भूलने वाला स्कूल का उस साल का आखिरी दिन था । स्कूल वेन से हम सब बच्चे लौट रहे थे , उस दिन अपने दोस्त से ज़िद करके आगे  बैठा था। इतना याद है वो सड़क पर  सामने से आता तेज रफ्तार में बहकता ट्रक और एकदम से धड़ाम

kahani - suicide Note ( horrer story)

                            SUICIDE NOTE निषी अपने हाथों में एक नोट लिए बैठी रोये जा रही थी। "काश सुन ली होती उसकी बात क्यों नही सुनी मेने क्यों क्यों क्यों?" ये सोचते सोचते एक बार फिर नज़र उस कागज के प्रतीक के सुसाइड नोट पर गयी.. Dear निषी यहाँ कोई भी मेरी बात सुनने को राज़ी नही था लेकिन ये सच है इस हॉस्टल के वो 107 कमरे में कुछ तो है। जिस दिन से में उसके बगल वाले रूम 106 में शिफ्ट हुआ था , हर पल एहसास होता कोई है दीवार के उस तरफ जो रोये जा रहा था । उस शाम जब सब फ्रेशर पार्टी थे तब में किसी काम से रूम आया था तो बालकनी में कोई खड़ा था और  बार बार फ़ोन पर बात किये जा रहा था "क्यों अलग हो रहे हो आप दोनों ? लव मेरिज की थी आप दोनों ने फिर क्यों मेरे बारे में सोचो" जैसे ही मेने उसे आवाज दी वो तुरन्त भाग गया अपने कमरे में । वो ही कमरा 107 जब पास जा कर देखा कमरे में तो ताला लगा था , में परेशान हो गया । लेकिन लगा की थकान की वजह से भ्र्म हो गया होगा । उस दिन से जब भी में बाहर खड़े हो कर तुमसे बात करता , लगता मानो कोई हँस रहा हो मुझ पर। बहुत पूछा उसके बारे मे

kahani - LOVE IN TRAIN (PART-3)

To read 2nd part Love in train (part-2)                      LOVE IN TRAIN (PART-3)                               मोहब्बत का सफर "अरे तुम्हारी आँख में आँसू , तुम रोती भी हो प्रतीक निषी को देखते बोला। तभी प्लेटफार्म की लाइट एकदम से बंद हो जाती है, निषी पलट कर प्रतीक से चिपक गयी। प्रतीक इस अचानक मिलन से चौक गया लेकिन उसके उदास मन और डरे हुए चेहरे को देख कुछ नही बोल पाया, पहली बार कोई लड़की उसके इतने करीब थी इसीलिए सोच ही नही पाया कि क्या करे। प्रतीक ने महसूस किया उसकी धड़कन निषी की धड़कन की आगे बन्द हो चुकी है और निषी का दिल डर से इतनी तेज़ धड़क रहा था , कि वो उसे अपने सीने में महसूस कर सकता था । तभी खुद को संभालते हुए निषी के सर पर हाथ रखते हुये प्यार से उसके कान में बोला-"डरो मत में हूँ ना, अच्छा अब घर फ़ोन लगा दो और बता दो मे प्रॉब्लम में हूँ।" तभी लाइट आ जाती है निषी खुद को प्रतीक के साथ से देख खुद एकदम से अलग करती है। उसकी आँखे में उसका शरमाना प्रतीक साफ साफ दिख रहा होती है , फिर वो अपना फ़ोन देखती है लेकिन फ़ोन उसके पास नही होता लगता है। "फ़ोन ट्रे

kahani - LOVE IN TRAIN (PART-1)

                 LOVE IN TRAIN(part-1)                            (मोहब्बत का सफर)   " भाई कहाँ की तैयारी आज इतनी जल्दी क्यों निकल रहा है घर ?" किसी ने प्रतीक के केबिन का दरवाजा खोलते हुए पूछा । प्रतीक फाइलो को अलमारी में लॉक करते हुए पलटा देखा दरवाजे पर ऋषभ खड़ा था ।   ऋषभ ने फिर इशारे से पूछा- कहाँ ? प्रतीक जल्दी- जल्दी अपने काम में व्यस्त होते हुए बोला "बाजार जाना है तू भूल गया कल ट्रेन है मेरी निकलना है ,तू भी बाजार चल शॉपिंग करनी है ।"  "ok wait 10 min you just lock your cabin i m coming" ऋषभ  बोलते हुआ चला गया । ऋषभ और प्रतीक एक ही ऑफिस में  साथ काम करते और flatemate और कॉलेज टाइम से पक्के यार है , प्रतीक को कल दार्जलिंग जाना है घूमने तो उसी के लिए शॉपिंग करनी है । दोनों ऑफिस के काम खत्म करके  शॉपिंग के लिये निकल जाते है । दोनों शॉपिंग खत्म करके लोट रहे थे तभी रस्ते में ऋषभ प्रतीक की तरफ गुस्से से देखता है , प्रतीक अनजान बनते हुए बोलता है "क्या? मेने क्या किया यार अब  यार उसको एक्स्ट्रा पैसे क्यों दू जब उसका रेट कम है ।" &q

किस्से व्हाट्सएप के... (हमारी अधूरी सी पूरी कहानी)

किस्से व्हाट्सएप के...                   (हमारी अधूरी सी पूरी कहानी) -ok to ye final gud bye??? -Ha, kyu abhi bhi kuch baki hai hamare beech kya?? -Nhi... -To final gud bye.. -Ok bye...     Can't reply You are blocked by contact तो कुछ ऐसी थी हमारी वो आखरी बात । गलती किसकी थी पता नही शायद किसी की नहीं या फिर शायद हम दोनों की नज़रों की थी  ? उसने हमेशा मुझे जिंदगी के हर कदम पर साथ देखा और मेने उसे अपने हर लम्हे के हर पल में साथ देखा। तो सुनोगे हमारी कहानी शायद हमारी अधूरी सी पूरी कहानी... वो सुबह बस स्टॉप पर बस का इंतज़ार कर ही रहा था, ओर जैसे ही बस आयी में चढ़ने ही वाला था की एक लड़की मुझसे टकरा गई, कुछ जल्दी में थी वो बहुत हाँफ भी रही थी। में ध्यान हटा कर बस में चढ़ गया, लेकिन ये क्या वो लड़की भी बस में चढ़ गई। बहुत भरी थी बस लेकिन उसको में देख सकता था, अभी भी हाँफ रही थी, धीरे धीरे मेरे पास ही आ कर खड़ी हो गयी । बाल जुड़े में थे चेहरा पूरा पासीने से था लेकिन वो एक साइड का डिंपल उसे ओर भी ज्यादा खुबशूरत बना रहा था। "टिकट टिकट कहाँ जाना है मैडम आपको?&q

The evening...^1 (Known or unknown love story?)

      The evening...^1    (Known or unknown love story?)       "हेल्लो प्रतीक क्या हो रहा है चल लंच पर चलते है।" ऋषभ प्रतीक के केबिन में आते हुए बोला। "नही यार मूड नही है।" ऋषभ अंदर आकर बोला "क्या हो गया है?" "कुछ नही यार बस ऐसे ही है।" "बता ना कुछ दिन से देख रहा हूँ बहुत परेशान है।" ऋषभ प्रतीक के कंधे पर हाथ रखते हुए बोला। "कुछ नही एक लड़की है यार बस उसने परेशान कर रखा है यार।" बस प्रतीक ने कहा। "क्या मतलब कुछ समझा नही कोन सी लड़की कहाँ मिल गयी ??" ऋषभ परेशान होते हुए बोला "अच्छा सुन तुझे शुरू से सुनाता हूँ।" "सुना।" चलो चलते है फ़्लैश बैक में booom "बात एक महीने पहले की है , याद है मेने छुट्टी ली थी।" हर शाम की तरह उस शाम भी करवटे बदल रहा था । घड़ी की टिक टिक के साथ समय गुजरता जा रहा था, उफ्फ ये क्यों ऑफिस से छुट्टी ले लेता हूँ यार। तभी घड़ी की टिक टिक को तोड़ते हुए दरवाजे की घण्टी बजती है। में सोचता हूँ इस समय को होगा घर पर तो में अकेला रहता हूँ और दोस्तो को प